कौन है रतन टाटा के कंधे पर हाथ रखने वाला ये शख्स? असलियत जानकर चौड़ी हो जाएंगी आपकी आंखें

दुनिया के दिग्गज उद्योगपतियों में से एक बिजनेसमैन रतन टाटा अपने काम के लिए दुनिया भर में जाने जाते हैं. रतन टाटा ने बीते मंगलवार 28 दिसंबर, 2021 को अपना 84वां जन्मदिन मनाया. उनका बर्थडे सेलिब्रेट करते उनका एक वीडियो वायरल हो गया है. इस वीडियो में रतन टाटा एक कुर्सी पर बैठे हुए सामने की टेबल पर एक छोटा कप केक काटते हुए नजर आ रहे हैं. रतन टाटा ने एक छोटे से केक पर मोमबत्ती फूंककर केक काटा. तभी उनके सामने टेबल पर बैठा युवा रतन टाटा के पास आकर खड़ा हो जाता है और उसके कंधे पर हाथ रख देता है. फिर वह बैठ जाता है और रतन टाटा के साथ कटे हुए कपकेक का एक टुकड़ा खिलाता है.

इंटरनेट पर वायरल हुआ रतन टाटा के बर्थडे का वीडियो

इंटरनेट पर वायरल होने वाले वीडियो में जा सकता है कि रतन टाटा  ने बिना दिखावा किए सस्ते केक को काटकर अपना बर्थडे सेलिब्रेट किया. इस सेलिब्रेशन में सबसे खास बात यह है कि उन्होंने बड़े ही सादगी के साथ जन्मदिन मनाया. फिलहाल यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. लेकिन इस वीडियो में कई लोग सोच रहे हैं कि रतन टाटा के साथ केक काटने वाला यह युवा शख्स कौन है? आपको जानकर हैरानी होगी कि रतन टाटा से इस लड़के का कोई भी पारिवारिक संबंध नहीं है. लेकिन फिर भी यह आश्चर्य की बात है कि रतन टाटा ने अपना जन्मदिन किसके साथ मनाया. हालांकि, इस युवा शख्स का रतन टाटा से खास जुड़ाव है.

कौन है रतन टाटा के कंधे पर हाथ रखने वाला शख्स?

वीडियो में शांतनु नायडू उस युवक का नाम है जो रतन टाटा के कंधे पर हाथ रखकर केक खिलाता है. शांतनु रतन टाटा के निजी सचिव हैं. वैसे रतन टाटा युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय हैं. उनकी स्पीच और कहानियां सोशल नेटवर्क पर लगातार वायरल होती रहती हैं. लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि 85 साल की उम्र में रतन टाटा के साथ एक युवा शख्स निजी सचिव के तौर पर काम करता है. बता दें कि मुंबई के रहने वाले शांतनु नायडू ऐसे खुशनसीब युवा हैं, जिनसे प्रभावित होकर रतन टाटा ने खुद फ़ोन कर कहा कि आप जो करते हैं मैं उससे बहुत प्रभावित हूं. क्या मेरे असिस्टेंट बनोगे.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Viral Bhayani (@viralbhayani)

आखिर क्या करते हैं शांतनु नायडू?

रतन टाटा के साथ काम कर रहे शांतनु ने अपनी कामयाबी की कहानी फेसबुक पेज ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे पर लिखी है. इसके बाद वह चर्चा में हैं. शांतनु बताते हैं कि 2014 में उनकी ज़िंदगी बदल गई. करीब पांच साल पहले उन्होंने एक कुत्ते को सड़क पर एक्सीडेंट में मरते हुए देखा. शांतनु ने कुत्तों को इस तरह से मरने से बचाने को लेकर सोचना शुरू कर दिया. शांतनु को कुत्तों को गले पर कॉलर बनाने का आइडिया आया. एक ऐसा चमकदार कॉलर, जिसे वाहन चालक दूर से देख सकें.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Primes Times अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!